भारत चीन (India-China) के बाच लद्दाख स्थित वास्तिवक नियंत्रण रेखा पर पिछले साल से जारी तनाव के बीच करीब 220 चीनी ऐप्स को बैन करने के बाद अब भारत सरकार चीनी मोबाइल कंपनियों के स्मार्टफोन पर सख्ती बढ़ाने जा रही है. खबर है कि भारत सरकार चीनी स्मार्टफोन के कल-पुर्जों और उसमें पहले से मौजूद ऐप्स (pre installed) की जांच करेगी. The Morning Context में छपी रिपोर्ट के मुताबिक भारत सरकार की ओर से चीनी स्मार्टफोन कंपनियों को उनके फोन में इस्तेमाल कंपोनेन्ट्स और डेटा को लेकर जानकारी मांगी है.

काउंटर प्वाइंट रिसर्च के डेटा के अनुसार चीनी स्मार्टफोन कंपनियों वीवो, ओप्पो, शियोमी और वनप्लस को नोटिस दिया गया है. खास बात ये है कि भारतीय मोबाइल बाजार में इन कंपनियों की 50% से ज्यादा की हिस्सेदारी है, यानी भारत में इस्तेमाल हो रहा हर दूसरा फोन इन्हीं कंपनियों का होता है.

सरकार के इस कदम का मकसद ये जानना है कि इन कंपनियों के स्मार्टफोन भारतीय उपभोक्ताओं के लिए सुरक्षित हैं भी या नहीं. माना जा रहा है कि चीनी स्मार्टफोन के डेटा को लेकर शुरुआती जानकारी मिलने के बाद भारत सरकार एक और नोटिस भेजेगी, जिसमें इन स्मार्टफोन की जांच की बात होगी.

फिलहाल नहीं कोई प्रतिक्रिया
रिपोर्ट के मुताबिक, वेबसाइट ने इन चीनी स्मार्टफोन कंपनियों से इसपर संपर्क भी किया है, लेकिन रिपोर्ट लिखे जाने तक उनकी ओर से कोई प्रतिक्रिया नहीं मिल पाई है.

ET की रिपोर्ट के मुताबिक नया नोटिस भारत में चीनी कंपनियों के खिलाफ एक बड़ी कार्रवाई का हिस्सा होने की उम्मीद है. ये चीनी दूरसंचार कंपनियों जैसे हुआवे और ZTE द्वारा इस्तेमाल किए जाने वाले घटकों में सरकार की जांच के अनुरूप भी हो सकता है. रिपोर्ट में कहा गया है कि न सिर्फ हार्डवेयर बल्कि सॉफ्टवेयर विवरण, विशेष रूप से चीनी स्मार्टफोन पर पहले से इंस्टॉल किए गए ऐप भी जांच के दायरे में आ सकते हैं.

Tags: Oneplus, Oppo, Redmi, Tech news, Xiaomi