मोबाइल बैंकिंग (नेट बैंकिंग) : अच्छी और बुरी चीजें जो आपको पता होनी चाहिए | Mobile Banking (Net Banking) : Good & bad things that you should know

आज के तकनीकी युग में, नए आविष्कार दिन प्रतिदिन हो रहे हैं और मोबाइल बैंकिंग (Mobile Banking) उनमें से एक है । इस लेख में, हम मोबाइल बैंकिंग (Mobile Banking/Net Banking) के बारे में बुनियादी ज्ञान साझा करने जा रहे है और आपको इस जानकारी का एहसास होना चाहिए । तो बिना किसी भी देरी के, चलो जल्दी से शुरू करते हैं|

Contents Hide

मोबाइल बैंकिंग (Mobile Banking) : यह क्या है?

मोबाइल बैंकिंग, यह दो शब्दों के जोड़ से बना हुआ है जोकि मोबाइल + बैंकिंग है।

जैसा कि निर्दिष्ट नाम, एसएमएस (SMS) और विभिन्न ऐप्स (APPS) के माध्यम से मोबाइल उपकरणों पर बैंकिंग गतिविधियों को निष्पादित करने को मोबाइल बैंकिंग के रूप में जाना जाता है। हर एक बैंक की अपनी एक मोबाइल बैंकिंग (Mobile Banking) application होती है जो घर या ऑफिस बैठे अपने ग्राहकों को बैंकिंग सुविधाएं देती है।

Mobile Banking (Net Banking) Good & bad things that you should know
Mobile Banking (Net Banking) Good & bad things that you should know

भारत में विभिन्न बैंकों में से शीर्ष पांच मोबाइल बैंकिंग ऐप (Top 5 mobile banking apps in India)

1. HDFC Bank (एचडीएफसी बैंक)

HDFC बैंक के नाम की fullform Housing development financial corporation है| ये बैंक पूरी दुनिया में अपनी सेवाए देता है| भारत में भी HDFC बैंक की दो mobile app उपलब्ध है, HDFC net banking app और HDFC payZapp. इन दोनों मोबाइल apps के द्वारा HDFC Bank आपके ग्राहको को साडी बैंकिंग की सुविधाये प्रदान करता है|

2. Axis Bank (एक्सिस बैंक)

Axis bank (एक्सिस बैंक) भी एक प्राइवेट बैंक है जो की भारत में अपनी सेवाये अपने ग्राहकों को प्रदान करता है| इस बैंक की भी दो mobile applications उपलब्ध है| पहली और मेन एप्लीकेशन्स है Axis net banking app, इसके आलवा एक ओर application है, BHIM Axis pay. BHIM Axis pay app को तो बहुत लोग जानते है और इसका प्रयोग भी कर रहे है|

3. ICIC Bank (आईसीआईसीआई बैंक)

ICIC Bank (आईसीआईसीआई बैंक) भी एक प्राइवेट और जाना माना बैंक है| iMobile pay एप्लीकेशन ICIC Bank द्वारा अपने ग्राहकों के लिए उपलब्ध है|

4. State Bank of India (भारतीय स्टेट बैंक) 

State Bank of India (भारतीय स्टेट बैंक) को तो हर एक भारतीय जनता है| ये भारत का मुख्य सरकारी बैंक है, इसकी भी दो मोबाइल एप्लीकेशन, जिनका नाम SBI YONO और BHIM SBI Pay हैं|

5. Kotak Mahindra Bank (कोटक महिंद्रा बैंक)

Kotak Mahindra Bank (कोटक महिंद्रा बैंक) भी एक प्रभावशाली बैंक है| ये बैंक अपनी तीन मोबाइल बैंकिंग apps के द्वारा अपने ग्राहकों को बैंकिंग सुविधाएं देती है, जिनके नाम Kotak- 811 & Mobile banking, KLAPP – Kotak Learning And Performance Partner और Kotak AllPay- The Merchant app है| 

मोबाइल बैंकिंग ऐप्स (Mobile Banking Apps) के साथ कैसे उपयोग/पंजीकृत करें

मोबाइल बैंकिंग एप्लिकेशन (Mobile Banking Apps) का उपयोग करने से पहले आपको निचे दिए गये विभिन्न कदमो का पालन करना चाहिए।

स्टेप 1:- सबसे पहले संबंधित बैंकों का मोबाइल बैंकिंग एप्लिकेशन (Mobile Banking Apps) डाउनलोड करें, जिनमें आपके पास सेविंग या करंट अकाउंट है।

स्टेप 2:- अब अपनी कस्टमर आईडी डालें और अपना चार अंकों का पासवर्ड सेट करें जिसे एम पीन कहा जाता है। इसे हर बार जब आप अपने नेट बैंकिंग ऐप में लॉग इन करते हैं तो इसे दर्ज करना होगा।

स्टेप 3:- लॉग इन करने के बाद, आप अपने बैंक द्वारा सुविधाजनक शुद्ध बैंकिंग सेवाओं का लाभ उठा सकेंगे जैसे धन का हस्तांतरण, बिल भुगतान और रिचार्ज आदि।

इसे भी पढ़े :- वजन कम करना चाहते है : हम कैसे शुरू करते हैं? | vajan Kaise kam kare

क्या मोबाइल बैंकिंग और ऑनलाइन बैंकिंग (Online Banking) दोनों एक ही हैं?

बिल्कुल नहीं, दोनों ऑनलाइन/इंटरनेट बैंकिंग जैसे कुछ मायनों में अलग हैं अक्सर बैंक की आधिकारिक वेबसाइट के माध्यम से किया जाता है लेकिन मोबाइल बैंकिंग बैंकों द्वारा प्रदान किए गए विभिन्न एप्स के माध्यम से पूरी की जाती है ।

दूसरा बड़ा अंतर इंटरनेट कनेक्शन है। ऑनलाइन बैंकिंग में, एक इंटरनेट कनेक्शन बहुत जरूरी है, लेकिन मोबाइल बैंकिंग अक्सर इंटरनेट के साथ या बिना होता है।

और तीसरा सबसे महत्वपूर्ण अंतर ऑनलाइन बैंकिंग के लिए आवश्यक एक उपकरण भी एक कंप्यूटर या लैपटॉप हो सकता है, लेकिन मोबाइल बैंकिंग अक्सर मोबाइल या टैबलेट द्वारा किया जाता है ।

मोबाइल बैंकिंग (Mobile Banking) के तहत विभिन्न सेवाएं उपलब्ध हैं।

आप मोबाइल बैंकिंग जैसे उपयोग करके विभिन्न प्रकार की सेवाओं का लाभ उठा सकते हैं:-

(a) खाते की जानकारी तक पहुंच

  • शेष जांच
  • लेन-देन का इतिहास
  • ब्याज दर जांच

(b) वित्तीय लेन-देन करना

  • किसी को भुगतान करना
  • स्वयं को फंड ट्रांसफर
  • बिल और किराया भुगतान
  • रिचार्ज आदि।

(c) निवेश करें

  • फिक्स्ड डिपॉजिट में
  • म्यूचुअल फंड निवेश
  • शेयरों और डिबेंचर आदि में निवेश।

(d) नई चेकबुक के लिए आवेदन

(e) शिकायत दर्ज कराएं

मोबाइल बैंकिंग (Mobile Banking) के लाभ और हानि (Pros & cons)

मोबाइल बैंकिंग (Mobile Banking) के सकारात्मक अंक हैं:-

  1. उपयोग करने में आसान – मोबाइल ऐप्स का उपयोग करने के लिए विशिष्ट ज्ञान की कोई आवश्यकता नहीं है। कोई भी कोई भी व्यक्ति किसी भी कठिनाई के साथ आसानी से एम.B का उपयोग कर सकता है।
  2. बैंक जाने की जरूरत नहीं – सभी वित्तीय गतिविधियों को सिर्फ घर या ऑफिस बैठे मोबाइल बैंकिंग एप्स पर क्लिक करके अंजाम दिया जा सकता है।
  3. सर्वकालिक उपलब्धता – एम.B सेवाएं 24 *7 उपलब्ध हैं। आप छुट्टियों के समय में भी बैंकिंग सेवाओं का लाभ उठाएंगे।
  4. आसानी से भुगतान करें – यदि आपको किसी को भुगतान करना है तो नकद निकासी के लिए बैंक या एटीएम बिंदु पर जाने की कोई आवश्यकता नहीं है। आप किसी को भी और हर जगह सेकंड के भीतर ऑनलाइन भुगतान कर देंगे।
  5. अकाउंट की जानकारी एक्सेस करें – आप अपने खाते की बैलेंस, ट्रांजैक्शन हिस्ट्री, लोन स्टेटमेंट चेक करेंगे या हो सकता है कि कुछ क्लिक्स के साथ अपना स्टेटमेंट डाउनलोड करें।
  6. अधिक सुरक्षित – आपका खाता सुरक्षित है क्योंकि आप एकमात्र ऐसे व्यक्ति हैं जो आपका उपयोगकर्ता नाम और पासवर्ड जानते हैं। इसके अलावा, आप अपने पंजीकृत मोबाइल नंबर पर भेजे गए ओटीपी को डालने पर ही वित्तीय लेनदेन करेंगे।

मोबाइल बैंकिंग (Mobile Banking) के कुछ नकारात्मक बिंदु भी हैं:-

स्मार्टफोन की जरूरत – आप विभिन्न बैंकिंग ऐप्स तभी डाउनलोड कर सकते हैं, जब आपके पास स्मार्टफोन और इंटरनेट कनेक्शन हो। अगर आपके पास स्मार्टफोन नहीं है तो मोबाइल बैंकिंग का दायरा सीमित हो जाता है।

हैकिंग और स्कैमिंगमोबाइल बैंकिंग के द्वारा हो रही धोखाधड़ी और खातों की हैकिंग जैसे जोखिमों से दम घुट रहा है। मोबाइल बैंकिंग तक पहुंचते समय सावधान रहें और किसी भी स्थिति में किसी के साथ ओटीपी (OTP) शेयर न करें।

मोबाइल बैंकिंग (Mobile Banking) सब कुछ कवर नहीं करता है– आप मोबाइल बैंकिंग के माध्यम से सीमित बैंकिंग सेवाओं का लाभ उठा सकते हैं।

FAQ

मोबाइल बैंकिंग (Mobile Banking) क्या है?

मोबाइल बैंकिंग, यह दो शब्दों के जोड़ से बना हुआ है जोकि मोबाइल + बैंकिंग है। जैसा कि निर्दिष्ट नाम, एसएमएस (SMS) और विभिन्न ऐप्स (APPS) के माध्यम से मोबाइल उपकरणों पर बैंकिंग गतिविधियों को निष्पादित करने को मोबाइल बैंकिंग के रूप में जाना जाता है। हर एक बैंक की अपनी एक मोबाइल बैंकिंग (Mobile Banking) application होती है जो घर या ऑफिस बैठे अपने ग्राहकों को बैंकिंग सुविधाएं देती है।

HDFC Bank (एचडीएफसी बैंक) की फुलफ़ोर्म क्या है ?

HDFC बैंक के नाम की fullform Housing development financial corporation है |

मोबाइल बैंकिंग ऐप्स (Mobile Banking Apps) के साथ कैसे उपयोग/पंजीकृत करें?

मोबाइल बैंकिंग एप्लिकेशन (Mobile Banking Apps) का उपयोग करने से पहले आपको निचे दिए गये विभिन्न कदमो का पालन करना चाहिए। स्टेप 1:- सबसे पहले संबंधित बैंकों का मोबाइल बैंकिंग एप्लिकेशन (Mobile Banking Apps) डाउनलोड करें, जिनमें आपके पास सेविंग या करंट अकाउंट है। स्टेप 2:- अब अपनी कस्टमर आईडी डालें और अपना चार अंकों का पासवर्ड सेट करें जिसे एम पीन कहा जाता है। इसे हर बार जब आप अपने नेट बैंकिंग ऐप में लॉग इन करते हैं तो इसे दर्ज करना होगा। स्टेप 3:- लॉग इन करने के बाद, आप अपने बैंक द्वारा सुविधाजनक शुद्ध बैंकिंग सेवाओं का लाभ उठा सकेंगे जैसे धन का हस्तांतरण, बिल भुगतान और रिचार्ज आदि।

क्या मोबाइल बैंकिंग (Mobile Banking) और ऑनलाइन बैंकिंग (Online Banking) दोनों एक ही हैं?

बिल्कुल नहीं, दोनों ऑनलाइन/इंटरनेट बैंकिंग जैसे कुछ मायनों में अलग हैं अक्सर बैंक की आधिकारिक वेबसाइट के माध्यम से किया जाता है लेकिन मोबाइल बैंकिंग बैंकों द्वारा प्रदान किए गए विभिन्न एप्स के माध्यम से पूरी की जाती है । दूसरा बड़ा अंतर इंटरनेट कनेक्शन है। ऑनलाइन बैंकिंग में, एक इंटरनेट कनेक्शन बहुत जरूरी है, लेकिन मोबाइल बैंकिंग अक्सर इंटरनेट के साथ या बिना होता है। और तीसरा सबसे महत्वपूर्ण अंतर ऑनलाइन बैंकिंग के लिए आवश्यक एक उपकरण भी एक कंप्यूटर या लैपटॉप हो सकता है, लेकिन मोबाइल बैंकिंग अक्सर मोबाइल या टैबलेट द्वारा किया जाता है ।

Leave a Comment