नई दिल्ली. कमल हासन मेटावर्स (Metaverse) में डिजिटल अवतार लेने वाले पहले भारतीय सेलिब्रिटी बनने जा रहे हैं. अभिनेता, राजनेता, प्रॉड्यूसर और डायरेक्टर ने नॉन-फंजीबल टोकन (non-fungible token) के जरिए डिजिटल जगत में एंट्री लेने वाले हैं. अपने 67वें जन्मदिन के बाद कमल हासन ने इस बात की घोषणा की है. नॉन-फंजीबल टोकन को शॉर्ट में NFT भी कहा जाता है. ये NFT क्या है, इसे समझना बहुत जरूरी है. भविष्य में ये टर्म आपके सामने आती ही रहेगी.

नॉन-फंजीबल टोकन (NTF) है क्या?
इस टर्म को पूरा समझने के लिए पहले फंजीबल (Fungible) को समझिए. फंजीबल किसी भी ऐसे वस्तु को कहा जा सकता है जिसके जैसी दूसरी चीजें भी उपबल्ध हों और उनकी कीमत भी उसी के बराबर हो. यदि उन चीजों के मालिक उन चीजों की अदला-बदली भी कर लें तो दोनों को कोई फर्क नहीं पड़ेगा. उदाहरण के लिए 100 रुपये का नोट. राम और श्याम दोनों के पास यदि 100-100 रुपये का नोट है और दोनों आपस में बदल भी लें तो दोनों के पास फिर भी 100-100 रुपये ही रहेंगे.

ये भी पढ़ें – फोन स्क्रीन को वायरस-फ्री बनाने के तरीके, खुद बचें, परिवार को भी बचाएं

अब बात करते हैं नॉन-फंजीबल की. जैसे कि नाम से ही स्पष्ट है कि जो फंजीबल नहीं है, उसे Non-fungible कहा जा सकता है. ऐसी चीज, जो दुनिया में दूसरी नहीं है. उदाहरण के लिए किसी अभिनेता का अभिनय, किसी पेंटर की पेंटिंग. MF हुसैन की पेंटिंग्स करोड़ों रुपये में बिकती हैं, क्योंकि उन्हें MF हुसैन ने बनाया.

दूसरा पेंटर भी वैसी ही पेटिंग बना सकता है, लेकिन वह महंगी इसलिए नहीं बिकेगी, क्योंकि वह उतना प्रसिद्ध नहीं है, जितना की एमएफ हुसैन. कमल हासन की कॉपी कोई कर सकता है, लेकिन वह कमल हासन नहीं हो सकता. कमल हासन का काम उनकी नॉन-फंजीबल प्रॉपर्टी हुई.

ये भी पढ़ें – हर तरफ मेटावर्स शब्द की चर्चा, मगर ये है क्या और आपके किस काम का?

टोकन का मतलब है ‘पैसा’ 
अब टोकन भी समझ लिया जाए. जब किसी नॉन-फंजीबल आइटम को ब्लॉकचेन पर बिक्री के लिए डाला जाता है तो उसे टोकन कहा जाता है. टोकन जुड़ जाने से पूरी टर्म नॉन-फंजीबल टोकन या फिर NFT बन जाती है. मतलब, कमल हासन की तस्वीरें, उनकी अदाकारी इत्यादी को जब खरीददारों के लिए उपलब्ध करवा दिया जाए और कोई उसे खरीद ले तो वह NFT के जरिए खरीददारी कहा जाएगा.

इसमें समझने लायक एक चीज ये भी है कि यदि NFT के जरिए कोई व्यक्ति कुछ खरीदता है और फिर उसे किसी और को बेचता है तो क्रिएटर को 10 प्रतिशत अमाउंट मिलेगा ही मिलेगा. मतलब यदि कमल हासन किसी कंपनी को अपना काम बेचते हैं और वह कंपनी उसे आगे बेचती है तो कमल हासन को 10 प्रतिशत हर बार मिलता रहेगा. यही वजह है कि अमिताभ बच्चन समेत बड़े-बड़े कलाकर NFT की तरफ आकर्षित हो रहे हैं.

Tags: App, Facebook, Kamal haasan, Tech news